40-50 पुराना Joint Pain का दर्द है तो जरूर देखे | गठिया 15 Days खत्म | Arthritis Treatment|जोड़ो का दर्द

Arthritis Treatment
Arthritis Treatment

40-50 पुराना Joint Pain का दर्द है तो जरूर देखे|गठिया 15 Days खत्म|Arthritis Treatment|जोड़ो का दर्द

Arthritis Treatment : ये इलाज है परिजात के द्वारा | इसे पारिजात , हरसिंगार और रात की रानी भी कहते है | इसका नाम परिजात इस लिए पड़ा क्यों की परिजात नाम की एक राजकुमारी थी वो सूर्य भगवान से प्रेम करती थी लेकिन उन्होंने परिजात का प्रेम अस्वीकार कर दिया राजकुमारी ने अपने प्राण त्याग दिए जिस जगह पर राजकुमारी की राख रह गई उस जगह पर पारिजात वृक्ष का नर्माण हुआ भगवान कृष्ण इसे स्वर्ग से धरती पर लाए इन्होने ऐसे हरसिंगार नाम दिया |

यह रात में ही खिलता है और अपनी खुशबु फलता है इस लिए ऐसे रात की रानी भी खा जाता है

पारिजात वृक्ष को लेकर गहन अध्ययन कर चुके रूड़की के कुंवर हरिसिंह के अनुसार यूँ तो परिजात वृक्ष की प्रजाति भारत में नहीं पाई जाती, लेकिन भारत में एक मात्र पारिजात वृक्ष आज भी उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जनपद के अंतर्गत रामनगर क्षेत्र के गाँव बोरोलिया में मौजूद है।


लगभग 50 फीट तने व 45 फीट उँचाई के इस वृक्ष की अधिकांश शाखाएँ भूमि की ओर मुड़ जाती हैं और धरती को छुते ही सूख जाती हैं। एक साल में सिर्फ़ एक बार जून माह में सफ़ेद व पीले रंग के फूलों से सुसज्जित होने वाला यह वृक्ष न सिर्फ़ खुशबू बिखेरता है,

बल्कि देखने में भी सुन्दर है। आयु की दृष्टि से एक हज़ार से पाँच हज़ार वर्ष तक जीवित रहने वाले इस वृक्ष को वनस्पति शास्त्री एडोसोनिया वर्ग का मानते हैं, जिसकी दुनिया भर में सिर्फ़ पाँच प्रजातियाँ पाई जाती हैं। इनमें से एक ‘डिजाहाट’ है। पारिजात वृक्ष इसी डिजाहाट प्रजाति का है।

  • इसे संस्कृत पे पारिजात कहते है, बंगला में शिउली कहते है ,
  • उस पेड़ पर छोटे छोटे सफ़ेद फूल आते है, और फूल की डंडी नारंगी रंग की होती है,
  • और उसमे खुसबू बहुत आती है, रात को फूल खिलते है और सुबह जमीन में गिर जाते है।

अगर रोज खा रहे है अश्वगंधा तो जरूर देखिए | Side Effects Of Ashwagandha | अश्वगंधा के विपरीत प्रभाव ( दुष्प्रभाव

Arthritis Treatment : गठिया रोग  ( Joint Pain , Arthritis )

  • हरसिंगार के पांच पत्तों को पीसकर पेस्ट बना लें,
  • इस पेस्ट को एक गिलास पानी में मिलाकर धीमी आंच पर पकाएं |
  • जब पानी आधा रह जाये तब इसे पीने लायक ठंडा करके पियें |
  • इस काढ़े का सेवन प्रातः खाली पेट पियें | इससे वर्षों पुराना गठिया के दर्द में भी निश्चित रूप से लाभ होता है।

Teeth Whitening At Home In 1 Minutes | दांतो का पीलापन व् मुँह की बदबू को दूर करे | How to Remove

( बॉडी पॉलिशिंग ) Body Polishing Scrub for Radiant , Bright, Glowing, Smooth & Silky Skin |

सायटिका (गृध्रसी )

  • दो कप पानी में हरसिंगार के 8-10 पत्तों के छोटे-छोटे टुकड़े करके डाल लें,
  • इस पानी को धीमी आंच पर आधा रह जाने तक पकाएं |
  • ठंडा हो जाने पर इसे छानकर पियें |
  • इस काढ़े को दिन में दो बार – प्रातः खाली पेट एवं सायं भोजन के एक डेढ़ घंटा पहले पियें |
  • इस प्रयोग से सायटिका रोग जड़ से चला जाता है। इस काढ़े का प्रयोग कम से कम 8 दिन तक अवश्य करना चाहिए |

अगर आप को ये Post अच्छी लगी तो Comment कर के जरूर बताएं और अपने Friends के साथ जरूर शेयर कीजिएगा अगर अभी तक आप ने मेरी Website www.myfitnessbeauty.com को Subscribe नहीं किया है तो Subscribe कर लीजिए तांकि मेरे आने वाले Post के Notification और उसके Updates आप को मिलते रहें |

मिलते है Next Post में तब तक के लिए Good Bye |

दिव्या शर्मा

Our Other Posts

Disadvantages of drinking too much water
Treatment For Sinus
How to Increase Hemoglobin Treat Anemia Iron Deficiency
Improve Your Immunity Power
Sciatica Pain, Joint pain, Heel pain treatment

Disadvantages of drinking too much water


About admin 81 Articles
Hello Friends,My name is Divya Sharma. Welcome to my blogging site. I have created this site specially for those who are very conscious about their health, fitness and looks. I post information regarding good health, increase looks. Our goal is to spread information of how to remain healthy and look beautiful always.For any queries, please write your comments. Our team will answer you queries.Stay Healthy, Always Be HappyThanks for your timeGood Bye