sciatica | low back pain and slip disc relief treatment

sciatica low back pain and slip disc relief
sciatica low back pain and slip disc relief

आज हम आपको बताने जा रहे हैं बैक पेन लो बैक पेन स्लिप डिस्क और साइटिका के बारे में(sciatica low back pain and slip disc relief) यह सब चीजें अलग अलग हैं लेकिन यह सब चीजें एक ही है इनका अर्थ इनका मतलब एक ही है आज हम आपको इन सब की कहानी समझाएंगे कि यह सब एक ही है नस दबना कैसे होता है और हम इस से कैसे बच सकते हैं जिन लोगों को यह समस्या हो चुकी है उन लोगों ने इससे छुटकारा कैसे पाना है उनको क्या करना चाहिए हमारे कमर में एक डिस्क बनी होती है

इस पोस्ट को शुरू करने से पहले आपको एक बात बताना जरूरी है कि यह पोस्ट नीचे दी गईं वीडियो का लिखित रूप है | जो जानकारी इस वीडियो में दी गईं है वही जानकारी इस पोस्ट में भी दी गईं है |

इस Post की वीडियो को देखने के लिए नीचे Play बटन पर Click करें

साइटिका के बारे में –

  • हर इंसान के उस डिस्क में प्रॉब्लम आ जाती है होता यूं है  डिस्क के अंदर  छल्ले बने हुए होते हैं |
  • इन छल्लो के नाम L1 L2 L3 L4 L5 S1  इन छल्लो से एक एक नस निकलती है |
  • इन छल्लो के बीच में जो गेप होता है  वह  80% पानी से बना होता है और 20% प्रोटीन  व कैल्शियम से बना होता है |
  • धीरे-धीरे किसी भी कारण से यह स्पेस खत्म हो जाता है |   
  • खत्म होने पर छल्ले की नस दब जाती है |
  • जो यह छल्लो से नस निकलती है वह आपस में जुड़कर आगे जाकर एक  साइटिका  नस का निर्माण करती है |
  • जिसके कारण पूरी टांग में दर्द होने लगता है |
  • यही कारण है साइटिका का दर्द शुरू होना यह समस्या L1 स्टार्ट होकर S1 पर खत्म होती है |
  • इनके बीच में ही यह समस्या आती है |

  • अगर आप यह सोच रहे होंगे कि इसको एकदम ठीक किया जा सकता है तो आपको बता दें इसको कोई दवाई या ऑपरेशन के द्वारा ठीक नहीं किया जा सकता |
  • आपको बता दें आप थेरेपी और आयुर्वेदिक तरीके से ठीक कर सकते हैं |
  • आप फाइन का ऑपरेशन नहीं करवाएं |
  • आप इस पोस्ट को जरूर पढ़ें  हमने आपको बता ही दिया यह दर्द कमर के नीचे वाले भाग से शुरू होता है |

किन कारणों से साइटिका का दर्द शुरू होता है :-

  • उन लोगों को यह दर्द ज्यादा होता है जो लोग एक्सरसाइज ज्यादा करते हैं |
  • बहुत ज्यादा वजन उठाते हैं |
  • इसके अलावा जो लोग बिल्कुल भी एक्सरसाइज नहीं करते |
  • जिनके शरीर में वात यानि वायु इकट्ठे होती रहती है |
  • इतनी वायु इकठी हो जाती है कि उनके इस डिस्क में जाकर जो यह छल्ले बने हैं इन छल्ले के अंदर जो फ्लूड है 80% पानी है 20% प्रोटीन व कैल्शियम है उनको सुखा देती है |
  • जिसके कारण छल्ले आपस में टकराने लगते हैं |
  • उनके बीच का स्पेस खत्म हो जाता है और किसी ना किसी नस को दबा लेते हैं |

नस दब जाए तो क्या होता है –

  • जब कोई ना कोई नहीं देती है तो पूरी टांग में दर्द होने लगता है |
  • पूरी टांग में जो दर्द होगा वह पीछे वाले भाग में ही होगा |
  • टांगों में नंबनेस आने लगती है यानी लाती लगाकर बैठे हैं तो टांगे सुन हो जाती है |
  • जब आप लेटे हुए हैं तब आपको बहुत दर्द होगा |
  • जैसे ही खड़े होंगे और चलेंगे तब दर्द नहीं होगा जैसे जैसे आपका शरीर गर्म हो जाएगा  वैसे वैसे साइटिका का दर्द ठीक हो जाएगा |
  • लेकिन जैसे ही आप थक हार कर ले लेंगे और फिर खड़े होंगे तब यह समस्या इतनी जबरदस्त होगी शायद  आपको इसका दर्द सहा नहीं जाएगा |
  • इसको दूर करने के लिए हमें क्या करना है |

आयुर्वेदिक इलाज :-

  • आपने अपने आहार में सुधार लाना होगा वात को शरीर से बाहर करना होगा एक्सरसाइज और Wolk करनी है |
  • हमें एक्सरसाइज कौन सी करनी होगी |
  • कुछ ऐसी सावधानियां है जिनको आपने फॉलो करना है तो चलिए जानते हैं |
  • इन सब समस्या को कैसे ठीक करें | 

शिलाजीत –

  • आपने रोजाना शिलाजीत का सेवन करना है |
  • लिक्विड शिलाजीत का ही सेवन करें |
  • वह हमारे नसों को मजबूती देती है |
  • छल्ले अपनी जगह से हिल चुके हैं वे नस को दबा रहे हैं उनको शिलाजीत ठीक करता है |
  • ऐसे नहीं आपने अकेला शिलाजीत का सेवन कर लिया और एक्सरसाइज नहीं कि आपने एक्सरसाइज भी जरूर करनी है |

कितनी मात्रा में करें शिलाजीत का सेवन :-

  • माचिस की तीली होती है आपने उस तीली को चार भागों में डिवाइड कर लेना है |
  • एक तीली पर जितनी शिलाजीत उठाई जाती है उसे गुनगुने पानी में डाल लीजिए और ले लीजिए |
  • इससे ज्यादा शिलाजीत का सेवन ना करें |

अंकुरित मेथी दाना –

  • आपने रात को सोते समय मेथी दाना को भिगो देना है |
  • जब  वह सुबह फूल जाए  उसे किसी कपड़े में बांध कर रख दीजिए |
  • जब  उसके अंकुर निकल जाए तब रोजाना दो चम्मच सेवन कीजिए |
  • पानी जरूर कीजिएगा |
  • क्योंकि फाइबर को पचाने के लिए पानी की जरूरत होती है |

गिलोय के जूस का सेवन –

  • गिलोय के जूस का सेवन करने से शरीर से वाक्य ने वायु वायु दूर होती है |
  • जिनके भी जोड़ों में दर्द है |
  • अर्थराइटिस की समस्या है |
  • घुटनों में दर्द रहता है |
  • यानी कि साइटिका की समस्या हो चुकी है स्लिप डिस्क की समस्या हो चुकी है |
  • उनको रोजाना ही गिलोय के जूस का सेवन आधा गिलास पानी में मिक्स करके करना है |
  • आपने वात वाली चीजें भी नहीं खानी जैसे कि अरबी, भिंडी, आलू, बैंगन, चावल, फूल गोभी, पत्ता गोभी, वात वाली जो भी चीजें हैं उनका सेवन नहीं करना |   

सावधानियां :-

  • आपने ज्यादा वजन नहीं उठाना |
  • बहुत सॉफ्ट गद्दे पर नहीं सोना |
  • वात वाली चीजें नहीं खानी |

ये थी जानकारी साइटिका कमर दर्द(sciatica low back pain and slip disc relief) को ठीक करने के बारे में |

अगर आप को ये Post अच्छी लगी तो Comment कर के जरूर बताएं और अपने Friends के साथ जरूर शेयर कीजिएगा अगर अभी तक आप ने मेरी Website www.myfitnessbeauty.com को Subscribe नहीं किया है तो Subscribe कर लीजिए तांकि मेरे आने वाले Post के Notification और उसके Updates आप को मिलते रहें |


मिलते है Next Post में तब तक के लिए Good Bye |

दिव्या शर्मा