अर्थराइटिस की समस्या (Arthritis problem) का इलाज | Treating the problem of arthritis

Treating the problem of arthritis
Treating the problem of arthritis

अगर आपको गठिया की समस्या है | आपके जोड़ों में से आवाज आती है |आपके शरीर के  हर जोड़ में दर्द होता है | आपको चलने-फिरने में दिक्कत आती है | आप अपने शरीर को साफ करना चाहते हैं | आपके घुटनों में दर्द होता है | आपके शरीर में यूरिक एसिड बढ़ रहा है | आपके खून में या फिर आपके ऊतकों मैं यूरिक एसिड की मात्रा धीरे-धीरे बढ़ कर आपकी हड्डियों के साथ जाकर जमा हो चुकी है जिसे गाउटीअर्थराइटिस कहते हैं | अगर आपको यह सभी समस्याएं हो चुकी हैं तो आज से ही यह इलाज आपने शुरू कर देना है |

डॉक्टरों का यह मानना है जब हमारे शरीर में अमल (एसिड) बढ़ जाता है यानी कि हमारे शरीर के अंदर वात/ वायु बढ़ जाती है इन दोनों स्थिति के बाद तीसरी स्थिति आती है वह हमारे शरीर में कैल्शियम कम होना | वह कैल्शियम हमारा शरीर हड्डियों से धीरे-धीरे खींचने लगता है जिसके कारण हड्डियों के अंदर कैल्शियम की कमी हो जाती है | तब हमें जोड़ों में दर्द, हड्डियों से संबंधित या फिर अर्थराइटिस की समस्या हो जाती है |

इस पोस्ट को शुरू करने से पहले आपको एक बात बताना जरूरी है कि यह पोस्ट नीचे दी गईं वीडियो का लिखित रूप है | जो जानकारी इस वीडियो में दी गईं है वही जानकारी इस पोस्ट में भी दी गईं है |

इस Post की वीडियो को देखने के लिए नीचे Play बटन पर Click करें

अर्थराइटिस की समस्या का इलाज :-

कच्चा पपीता –

इलाज के लिए आपको कच्चे पपीते का उपयोग करना है | आपने पके हुए पपीते के फायदे तो बहुत सुने होंगे कि वह हमारी आंखों की रोशनी को बढ़ाता है, हमारे अंदर फाइबर की मात्रा को बढ़ाकर पेट से संबंधित जितनी भी समस्याएं होती हैं उनको दूर कर देता है, वजन को कम करने का काम करता है |

पपीते के पत्तों की बात करें तो वह कैंसर से संबंधित समस्या को भी ठीक कर देता है | अगर आपने कच्चे पपीते की चाय दिन में 2 बार पी ली तो जितनी भी समस्याएं होती हैं शरीर में वायु बढ़ना, कैल्शियम की कमी से अर्थराइटिस की समस्या या गठिया की समस्या हो जाती है यह उसके लिए बहुत ही फायदेमंद है |


कच्चे पपीते की चाय कैसे बनाएं :-

कच्चे पपीते की चाय बनाने के लिए सामग्री –

  • आपने 200 ग्राम कच्चा पपीता ले लेना है उसे काट लीजिए |
  • 150 ml पानी लीजिए कच्चे पपीते को इस पानी के अंदर डाल कर कम से कम 5 से 7 मिनट  उबाल लीजिए |
  • ध्यान रखिए जब आप इसे उबाल रहे हो तब आपने उसे ढक कर उबालना है क्योंकि इसकी जो भाप है वह बाहर नहीं जानी चाहिए |
  • 5 से 7 मिनट के बाद आप गैस को बंद कर दीजिए |
  • उसके बाद 2 से 3 मिनट के लिए आपने इस पानी को ढक कर रख देना है फिर इसे आपने किसी कप में छान लेना है |
  • उसके बाद इसके अंदर आपने एक चम्मच ग्रीन टी डाल देनी है फिर से 2 से 3 मिनट के लिए रख देना है |
  • उसके बाद आपकी चाय तैयार हो जाएगी |

कच्चे पपीते की चाय का सेवन करने का तरीका –

इसका सेवन आपने दिन में दो बार करना है जब भी आप खाली पेट महसूस करें |यानी कि सुबह उठकर खाली पेट आप इस चाय को पी लीजिए | फिर ठीक ऐसे ही चाय आपने 4 से 5 बजे के बीच में बनाकर पी लेनी है | इस चाय का सेवन आपने कम से कम 15 दिन रोजाना दिन में दो बार करना है | जब आप 15 दिन रोजाना इसका सेवन करेंगे तब फर्क आपको दिख जाएगा | फर्क दिखने के बाद आपने 2 महीने रोजाना इसका सेवन करना है |

ऐसा करने से घुटनों की समस्या दूर होती है | गठिये की समस्या भी दूर होती है | शरीर की सूजन दूर होती है | शरीर से विषैले पदार्थ बाहर होते हैं |

अर्थराइटिस की समस्या को ठीक करने के लिए एक्यूप्रेशर पॉइंट :-

पहला एक्यूप्रेशर पॉइंट –

अर्थराइटिस की समस्या को ठीक करने के लिए जो पॉइंट है वह हमारे हाथ की अनामिका उंगली/ रिंग फिंगर का ऊपरी भाग जैसा कि आपको नीचे फोटो में लाल बिंदु द्वारा दिखाया जा रहा है | उस जगह को आपने दबाना है | जब इसे दबाते समय वहां दर्द होता है तब समझ जाइए या तो आपको गठिया की समस्या हो गई है या आपको गठिया समस्या होने वाली है | यह आपने दोनों हाथों की अनामिका उंगली/ रिंग फिंगर में दबाना है |

दूसरा एक्युप्रेशर पॉइंट –

दूसरा पॉइंट हमारे हाथ के पीछे वाले भाग में है | हमारे हाथ के उल्टे भाग पर उंगलियों के बीच वाली जगह में चैनल्स बने होते हैं | जैसा कि आपको नीचे फोटो में लाल रेखा द्वारा दिखाया गया है | आप ने इन सभी चैनल्स को दबाना है | यह गठिया की समस्या को काफी हद तक ठीक करेंगे | 

मेथी दाने का सेवन :-

आपने रात को सोते समय एक कटोरी मेथी दाना भिगो देना है | सुबह आपने उसके अंकुरित अनाज निकाल लेने हैं | उसके बाद आपने सुबह खाली पेट दो चम्मच मेथी दाना के अंकुरित अनाज का सेवन करना है | ऐसा करने से हमारे शरीर में जितने भी वायु बनती है वह बाहर हो जाएगी और वात जैसी समस्याएं भी ठीक हो जाएगी | अगर आप रोजाना इसका सेवन नहीं कर सकते तो 1 दिन छोड़कर आप इसका सेवन जरूर करें |

सावधानियां :-

1.गठिया की समस्या को ठीक करने के लिए आप खट्टी चीजें व ठंडी चीजों का सेवन करना बंद कर दीजिए |

2.वात वाली चीजें खाना बंद कर दीजिए |

3.ऐसे तेल का सेवन करें जो रिफाइंड तेल व पाम तेल ना हो, क्योंकि जब हम इन तेल का सेवन करते हैं तब हमारे शरीर में वात कम होने की वजह बढ़ जाती है |


ये थी जानकारी अर्थराइटिस की समस्या के इलाज के बारे में |

अगर आप को ये Post अच्छी लगी तो Comment कर के जरूर बताएं और अपने Friends के साथ जरूर शेयर कीजिएगा अगर अभी तक आप ने मेरी Website www.myfitnessbeauty.com को Subscribe नहीं किया है तो Subscribe कर लीजिए तांकि मेरे आने वाले Post के Notification और उसके Updates आप को मिलते रहें |

मिलते है Next Post में तब तक के लिए Good Bye |

नीचे दिए गए सभी कारणों से इस पोस्ट को पढ़ा जा सकता है :-

knee pain treatment
jodo me dard ka upay
jodo me dard kyu hota hai
जोड़ों के दर्द का इलाज
jodo me dard ka ilaj
ghutno me dard kyu hota hai
ghutno me dard ka ilaj
घुटनों के दर्द का इलाज
ghutno me dard ki exercise
jodo me dard ka ghrelu upay
jodo ka dard kese thik kren
ghutno ke dard ka upay
ghutno ka dard kese thik kren

दिव्या शर्मा